अन्ना हजारे ने मोदी सरकार को बताया अमीरों की सरकार, स्मार्ट विलेज की मांग

स्मार्ट सिटी की जगह स्मार्ट विलेज बनाओ – अन्ना हजारे

जनलोकपाल के लिए तत्कालीन यूपीए सरकार के खिलाफ आंदोलन छेड़ने वाले मशहूर समाजसेवी अन्ना हजारे ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार किसानों को आय दोगुनी का झुनझुना थमा रही है। किसानों को उनकी उपज का सही मूल्य नहीं मिल रहा है और इस कारण किसान त्रस्त होकर आत्महत्या करने को मजबूर हो रहे हैं।

अन्ना हज़ारे ने कहा कि वह किसानों की समस्याओं को लेकर अब निर्णायक लड़ाई लड़ने का मन बना चुके हैं। अन्ना हजारे बृहस्पतिवार ने टिहरी में किसानों की एक जन सभा को संबोधित करते हुए यह बात कही। उन्होंने प्रथम विक्टोरिया क्रास विजेता वीर गबर सिंह नेगी को श्रद्धा सुमन भी अर्पित किए।
अन्ना हज़ारे ने एलान किया कि वह 23 मार्च से दिल्ली में देश के किसानों को कर्ज मुक्त करने और लोकपाल बिल पारित करने के लिए एक बड़ी लड़ाई की शुरुआत करेंगे। अपनी आगे की रणनीति पर बात करते हुए उन्होंने बताया कि आंदोलन को सफल बनाने के लिए वह अबतक देश के 20 राज्यों में लोगों से मिल चुके हैं। केंद्र की मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि यह सरकार आमजन को भूलकर उद्योगपतियों के हित साधने में लगी हुई है। इसके साथ-साथ उन्होंने किसानों को पांच हजार मासिक पेंशन देने और उनकी उपज का लागत से अधिक मूल्य दिए जाने की मांग की।
अन्ना हज़ारे ने कहा कि स्मार्ट सिटी बनने से देश के पर्यावरण को नुकसान हो रहा है, हमारा देश गांवों में बस्ता है, इसलिए देश में स्मार्ट गाँव बनाए जाने चाहिए। उन्होंने बताया कि गांव-गांव में खुशहाली और तरक्की के रास्ते महात्मा गांधी की ग्राम स्वराज योजना को धरातल पर उतारने से खुल सकते हैं, देश की सरकारों को इस ओर ध्यान देना चाहिए।

Leave a Reply