जाँच में सहयोग के लिए समय नहीं है – नीरव मोदी

March 1, 2018 9:03 am0 commentsViews: 231

पंजाब नेशनल बैंक फ्रॉड के मुख्य आरोपी नीरव मोदी ने सीबीआई जांच में हिस्सा लेने से मना कर दिया है। सीबीआई अधिकारियों के अनुसार नीरव मोदी ने अपने विदेश में चल रहे व्यापार के कारण समय नहीं होने का बहाना दिया है, उन्होंने कहा है कि अपने विदेश व्यापार के चलते उनके पास समय नहीं है। ज्ञात रहे कि सीबीआई ने नीरव मोदी से उनके अाधिकारिक ईमेल पर सम्पर्क करके जांच में हिस्सा लेने के लिए कहा था। जिस पर नीरव मोदी ने जांच में हिस्सा लेने से इनकार कर दिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सीबीआई ने नीरव मोदी को एक और ईमेल लिखकर अगले हफ्ते तक जांच में हिस्सा लेने का निर्देश दिया। सीबीआई ने निर्देश दिया कि वह जिस भी देश में हैं, वहां के भारतीय दूतावास से तुरंत सम्पर्क करें। सीबीआई नीरव मोदी के देश वापसी की भी कोशिशें कर रही है, हालाँकि उसमें अभी तक कोई ख़ास कामयाबी प्राप्त नहीं हुई है।

पीएनबी द्वारा बैंक में हुए फर्जीवाड़े की शिकायत के बाद कई एजेंसियां नीरव मोदी, मेहुल चौकसी और कई अन्य के खिलाफ जांच कर रही है। गीतांजलि जेम्स के प्रमोटर मेहुल चौकसी नीरव मोदी का मामा है, इन दोनों के साथ-साथ कंपनी तथा पंजाब नेशनल बैंक के कुछ अधिकारियों पर बैंक से धोखाधड़ी करके 12,717 करोड़ रुपये का घोटाला करने का आरोप है। सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) इस मामले में एफआईआर दर्ज करके जांच कर रहे हैं।

पढ़ें: यूपीए में शुरू होकर एनडीए सरकार में 50 गुना तक बढ़ गया पीएनबी घोटाला

ज्ञात रहे कि यह घोटाला हीरे के आभूषण डिजाइनर नीरव मोदी द्वारा पीएनबी की मुंबई शाखा से फर्जी साख पत्र हासिल करने और अन्य भारतीय बैंकों की विदेशी शाखाओं से कर्ज हासिल करने से संबधित है। पीएनबी घोटाला 11,300 करोड़ रुपये बताया जा रहा है और इसमें नीरव मोदी और उनके मामा मेहुल चौकसी का नाम सामने आया हैं। मामले की जांच सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय सहित अन्य एजेंसियों द्वारा जांच की जा रही है। जांच का विषय यह भी है कि साख पत्र या एलओयू के आधार पर कितना कर्ज दिया गया। पीएनबी जांच रिपोर्ट के आधार पर देनदारियों का भुगतान करेगा। यहाँ यह भी जानना आवश्यक है कि जनवरी में सरकार ने पीएनबी में चालू वित्त वर्ष में 5,473 करोड़ रुपये डालने की घोषणा की थी।

Tags: